उत्तर प्रदेश

प्रियंका गांधी का BJP पर हमला, कहा- ये कृषि कानून किसानों के लिए नहीं बने, यह सिर्फ अरबपतियों की मदद करेंगे

लखनऊ. कांग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनाव (UP assembly Election 2022) को लेकर अपने स्तर से हर संभव प्रयास कर रही है. जबकि कांग्रेस ने कृषि कानूनों का खुला विरोध कर किसानों को साधने के लिए पश्चिमी यूपी में 10 फरवरी से जय जवान-जय किसान अभियान के तहत किसान महापंचायत का आगाज कर दिया है. इस बीच सहारनपुर में कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने कृषि कानूनों को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्‍होंने कहा कि केंद्र सरकार ने जो 3 कृषि कानून बनाए हैं वो राक्षस रूपी कानून हैं और यह किसानों को मारना चाहते हैं. यह कानून भाजपा के नेतृत्व के पूंजीपति मित्रों के लिए जमाखोरी के दरवाजे खोलेगा. हमारी सरकार बनेगी तो यह कानून खत्‍म हो जाएंगे.

इसके साथ प्रियंका गांधी ने कहा कि जब कांग्रेस की सरकार बनेगी तो कानून आपको पीसने के लिए नहीं बल्कि मदद के लिए बनेंगे. हम आपके जीवन के साथ राजनीति नहीं करेंगे. इस दौरान उन्‍होंने कहा कि 1955 में जवाहरलाल नेहरू ने जमाखोरी के खिलाफ कानून बनाया था, लेकिन इस कानून को भाजपा सरकार ने खत्म कर दिया है. यह नया कानून ‘अरबपतियों’ की मदद करेगा और वह किसानों की उपज का मूल्य तय करेंगे. इसे साथ प्रियंका ने कहा कि किसानों को देशद्रोही कहने वाला और उसका मजाक उड़ाने वाला कतई देश भक्त नहीं हो सकता.

पीएम मोदी पर प्रियंका गांधी का जोरदार हमला
सहारनपुर किसान महापंचायत के दौरान कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी पर भी जोरदार हमला बोला. उन्‍होंने कहा कि पीएम मोदी के 56 इंच के सीने में छोटा सा दिल है, जो किसानों के बजाए अपने खरबपति दोस्तों के लिए धड़कता है. इसके साथ उन्होंने कहा जिसने रेलवे और कई सरकारी उपक्रम बेच दिए उस पर अब देशवासी भरोसा नहीं कर सकते हैं. इसके अलावा कांग्रेस महासचिव ने गन्ना किसानों की बात करते हुए कहा कि किसानों का 15 हजार करोड़ रुपये भुगतान नहीं दिया गया. जबकि 16 हजार करोड़ में अपने लिए दो जहाज खरीद लिए और 20 हजार करोड़ रुपये संसद भवन के सुंदरीकरण के लिए खर्च कर रहे हैं. मगर आपके 15000 करोड रुपए का बकाया आज तक आपको नहीं मिला. वह किसानों का दिल नहीं समझ रहे हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 + 13 =

Back to top button