लाइफस्टाइल

घर बैठे जांचे अपनी इम्यूनिटी और घरेलू उपाय से बढ़ाएं अपनी इम्यूनिटी

कोरोना काल में एक बात बार-बार निकल कर सामने आ रही है कि इम्यूनिटी सही रहेगी तो कोविड से लड़ना आसान होगा। यदि आपकी इम्यूनिटी सही रहेगी तो कोरोना बहुत असर नहीं कर पाएगा। आइए जानते हैं कि हमारा इम्यूनिटी लेवल क्या है और सबसे बड़ी बात है हम बगैर किसी मशीन के घर बैठे अपनी अपना इम्यूनिटी लेवल चेक कर सकते हैं और अपनी इम्यूनिटी बढ़ा सकते हैं, जानिए कैसे। यह आपको कोई ब्लड जांच की रिपोर्ट नही बता सकती बल्कि हम आपको खुद इम्यूनिटी स्कोर चार्ट बनाने के तरीके बताएंगे ,साथ ही प्रकृति के ऐसे नियम भी बताएंगे कि आप अपनी इम्यूनिटी कैसे बढ़ाएं।

ध्यान देने वाली बात है जिस व्यक्ति का शरीर अंदर से साफ होगा उसमे इम्यूनिटी ज्यादा होगी। जब हम गलत खाना खाते है और हमेशा ही खाते रहते है तो हमारा शरीर अंदर से ज्यादा गंदा हो जाता है,ऐसे में जो शरीद अंदर से ज्यादा गंदा होगा वहां अपने आप कीटाणु अटैक्ट करेंगे ।अब आप सोच रहे होंगे कि मेरी बाड़ी अंदर से साफ है कि नही मेरी इम्यूनिटी अच्छी है कि नही ।

हमारे वेदों ने भी इम्यूनिटी के किये साफ सुझाव दिए है जो कुल 8 है।

1- पेट साफ होना

सही समय पर सही मात्रा में पेट साफ होना, मतलब 24 घंटे में एक बार अपने आप पेट साफ होना चाहिए बगैर किसी गोली या चूरन के,सुबह उठते ही यदि पेट साफ नही होता तो समझ लिए कब्ज है। गंदगी आपके शरीर में बनी रहेगी यानी जो गंदगी बाहर निकलनी थी वह बाहर नहीं निकल रही और जब गंदगी शरीर मे बनी रहेगी तो कीटाणु अपने आप अटैक्ट होंगे जो हमारी इम्यूनिटी को कमजोर करेंगे।

2- ज्यादा वजन

शरीर का वजन जरूरत से ज्यादा होना भी एक कारण है। अगर आपका रोज पेट अच्छी तरह साफ न हो रहा है तो आपका वजन अपने आप बढ़ेगा। पेट ठीक से साफ न होने के कारण वजन धीरे धीरे बढ़ने लगता है और कहीं न कहीं यह शरीर में अन्य बीमारियों को जन्म देता है।

3- त्वचा साफ होना

त्वचा साफ होनी चाहिए। आपका शरीर आपके अंदर के शरीर के आईना के रूप में काम करता है। जब हमारा अंदर खून साफ नही होता तो शरीर पर धब्बे, स्पॉट दाने आदि होने लगते है। खून में गंदगी जमी रहती है तो भी ऐसा होता है और स्क्रीन साफ नही होती साथ मे रूखापन बना रहता है जिससे उलझन की समस्या भी रहती है ।

4- आलस्य का अनुभव

मुख्यरूप से व्यक्ति को आलस्य नही होना चाहिए, जिस व्यक्ति की इम्यूनिटी सही नही होगी उनमें आलस्य बना रहेगा। थकान लग जाना, काम करने का मन न होना, अगर आप सुबह उठ कर फ्रेश नहीं लगते और दिन में नींद आती रहती है तो यह मान लीजिए आपकी इम्यूनिटी कमजोर है । यदि आपका पेट साफ नही है तो भी आलस्य बना रहता है।

5- तेज भूख का अनुभव

तेज भूख, यानी जब भूख लगे तो तेज भूख लगनी चाहिए। बहुत से लोगो को तेज भूख का अनुभव ही नही होता, वह समय से सिर्फ इस लिए बगैर तेज भूख लगे खा लेते है क्योकि उन्हें लगता है खाने का समय हो गया जबकि उनके पेट ठीक से साफ नही है या बहुत लोग बीच बीच मे कुछ न कुछ खाते रहते है जिससे भी उन्हें तेज भूख का अनुभव नही होता। यदि आपकी इम्यूनिटी अच्छी है तो दिन में कम से कम एक से दो बार तेज भूख लगनी चाहिए। यदि ऐसा नही हो रहा तो यह साफ है कि हमारा खाना ठीक से पच नही रहा है।

6- गहरी नींद

रात में गहरी नींद आना बहुत जरूरी है, यदि आप रात में बीच बीच मे उठते रहते है, नींद ठीक से नही आती तो भी आपकीं कमज़ोर इम्यूनिटी के लक्षण है। यदि आपको रात में बेड पर लेटने के काफी देर बाद नींद आती तो भी ठीक नही है अच्छी नींद वह होती है जब आप बेड पर जाए और 5 से 10 मिनट के अंदर नीद आ जाये।

7- शरीर में दर्द

शरीर के किसी हिस्से में अनावश्यक दर्द होना। जैसे सरदर्द, बदन दर्ज आदि अक्सर लोग अपनी समस्या बताते है यदि ऐसा होता है तो साफ है किसी न किसी प्रोटीन, न्यूट्रिशन या अन्य कमी से ऐसा होता है। पेट साफ न होने से भी यह समस्या बनी रहती है।

8 – सुख का अनुभव

आप खुद सोचे की क्या आप पूरे दिन मे खुश रहते है या बगैरे किसी बात के भी दुःखी हो जाते, अनावश्यक उलझन बनी रहती है। चिड़चिड़ापन बना रहता है।, तो समझिये अभी यह लक्षण नही पूरा हो रहा । अगर शरीर अंदर से गंदा है तो उसका प्रभाव मन पर भी पड़ता है। जो आप उस समय कारण नही समझ पाते है। यह भी कमजोर इम्यूनिटी के लक्षण है।

अब आप कुल 8 स्कोर को टोटल कर लीजिए और देखिए इसमे कितने आप पर सूट करते है यानी आठ में किंतना प्रतिशत आप का इमन्युटी स्कोर है।

आमतौर पर हम सोचते है कोई काढ़ा मिल जाये, कोई दवा मिल जाये जो हमारी इम्यूनिटी बढ़ा दे लेकिन हम अपनी आदतें नही बदलते है। सुबह सुबह पराठे तो नही छोडूंगा आदि ऐसे गलत खानपान है जिसे छोड़ना होगा और हमें अपनी आदत बदलनी होगी।आपका स्कोर कैसा भी हो लेकिन अब हम आपको बात करते है यदि हमारी इम्यूनिटी कमजोर है तो उसे ठीक कैसे करे। 3 ऐसे स्टेप है जिसे आप अपनाकर अपना स्कोर बढ़ा सकते है।

1- उपवास

आयुर्वेद से लेकर विज्ञान तक सभी उपवास को सबसे उपयुक्त माध्यम बताते है। अब आपको लग रहा होगा कि हम आपको उपवास रखवाकर आपके खान पान को बंद करना चाहते है लेकिन ऐसा नही है और न ही ऐसा है जो आप सोचते है कि सप्ताह में एक दिन आप उपवास रहते है तो सब ठीक है। ऐसा भी नही है उपवास का मतलब प्रतिदिन उपवास। अब आप और डर गए होंगे कि यदि प्रतिदिन उपवास रहेंगे तो खाना कब खाएंगे। हम आपको बताते है कि आप प्रतिदिन कैसे उपवास रख सकते है। आप अपना डिनर रात में 6 से 8 बजे के बीच मे कर लीजिए वह भी लाइट। ऐसे में जब 6 से 8 बजे के बीच मे आप डिनर कर लेंगे तो अगले दिन सुबह लगभग 12 घंटे आपकीं शरीर उपवास पर रहेगी। अब आप समझिये की उपवास से आपकीं इम्यूनिटी कैसे बढ़ती है। जब आप उपवास पर होंगे तो सबसे पहले आपके शरीर का वह खाना जो आपने खाया है उसे पचाने का काम करेगा और दूसरा आपकीं शरीर को हीलिंग करने का भी काम करेगा। हम सुबह से लेकर शाम तक कुछ न कुछ खाते रहते है। पहले वाला खाना अभी नीचे उतरा ही नही की ऊपर से हम उसमे कुछ और डाल देते है। जब हम ज्यादा खाते रहते है साल में 365 दिन हमारी शरीर सिर्फ खाना पचाने में लगी रहती जो कर भी नही पाती। अब बात करते है जब हम डिनर 6 से 8 बजे के बीच कर लेंगे तो खाना 6 से 7 घंटे में पच जाएगा और उसके बाद शरीर हीलिंग करने लगेगी और हिलीग करने से शरीर मे जो वेस्ट इकठ्ठा होगा उसे बाहर निकाल देगा, शरीर को अंदर से साफ करेगा और यदि कोई कीटाणु आये है शरीर मे तो उसे भी मार कर आपको सुरक्षित करेगा और अगले दिन सुबह सुबह आपका पेट साफ होगा । यदि आप 6 से 8 बजे रोज डिनर करना शुरू कर देंगे तो आपकीं शरीर को प्रतिदिन 8 से 10 घंटे हीलिंग के लिए मिल जाएगा। अंदर से साफ शरीर ही इमन्युटी को बढ़ाती है। इस बीच आप पानी पीना न भूले लेकिन ध्यान रखे खाने के साथ पानी न पीयें साथ ही सुबह से दोपहर तक हर घंटे एक एक ग्लास पानी पीते रहे जो आपके शरीर के पानी की कमी को पूरा करेगी। सुबह 8 बजे तक पानी पीने के साथ साथ आप लिक्विड बेजीटेबल जूस ले सकते है लेकिन काफी चाय से परहेज़ करे।

2- नाश्ते में क्या खाएं

हम बात करते है नाश्ते की, आमतौर पर हम नाश्ता की जैसे बात करते है तो पराठा, ब्रेड आदि ऐसे नाम निकल कर आते है जो सामान्यतः लोगो का नाश्ता होते है लेकिन यह गलत है। यह आपकीं इम्यूनिटी को कमजोर करता है । जब आप अपना उपवास तोड़ते है तो कोई फल खाएं वह नाश्ता करे जिसमे आपके शरीर के प्रोटीन, न्युटीसीयन आदि की कमी पूरी करें लेकिन ध्यान रखे यह लिक्विड हो और आपके शरीर को पचाने में आसान है। कोशिश करे कोई एक फल खाएं लेकिन यदि आपको सिर्फ एक फल पसंद नही तो कई तरह के फल भी खा सकते है क्योकि फलों को पचाना बहुत आसान होता है। फलों को पचाने में मात्र 3 घंटे लगते है और अनाज को पचाने में 15 से 18 घंटे तक लगते है। इस लिए यदि अनाज की जगह फल खाएंगे तो आपकीं शरीर फल को पचाकर हीलिंग पर लग जायेगा और फिर दोपहर में आपको अच्छी भूख लगेगी। एक और बात फल अपने आप मे शुद्धिकारक खाना है यह शरीर मे जाकर चिपकते नही बल्कि क्लीन करते है। गंदगी नही बनाते बल्कि जो गंदगी जमी है उसको भी साफ करते है। आप उपरोक्त उपाय को सिर्फ एक हप्ते करके देखे और उसके बाद आप अपने स्कोर चार्ट फिर से भरिए आपको बेहतर लगेगा। आप देखेंगे एक एक करके आपके शरीर के सभी लक्षण सही होने लगेंगे और आपकीं इम्यूनिटी ठीक होने लगेगी। यदि आपका वेट अधिक है तो वह कम होने लगेगा, आपकीं स्क्रीन साफ होने लगेगी, सुबह उठेंगे तो फ्रेस महहुस करेंगे। आप सुबह एकदम फ्रेम और एनर्जी के साथ उठेंगे, आपको रात को नींद बहुत गहरी आने लगेगी साथ मे दिन में थकान जो लगती थी नही लगेगी। आलसपन समाप्त हो जाएगा। दिन में तेज भूख का अनुभव भी होने लगेगा साथ मे शरीर के तमाम दर्द भी धीरे धीरे समाप्त हो जाएंगे और जब यह सब होगा तो मन मे बहुत खुशी आ जायेगी, जो चिड़चिड़ापन है वह चला जायेगा। एक और बात आप इसे अकेले मत कीजिये बल्कि यह सब पूरी फैमली के साथ कीजिये ऐसे में पूरे परिवार में खुशियां आ जाएंगी और जब पूरा परिवार साथ मे करेगा तो और भी ज्यादा आसान हो जाएगा। इन दोनों स्टेप को आप जरूर अपनाए साथ मे हम आपको इम्यूनिटी ठीक करने का एक तीसरा तरीका भी बता रहे है।

3 – एक बार अनाज खाए

दिन में सिर्फ एक बार अनाज खाये तो दोपहर में 1 से 2 बजे के बीच मे खाना खाये लेकिन उसमे तीन गुना ज्यादा सब्जी और सलाद खाये । लंच भरपेट खाये, अपने मनपसंद चीजों का सेवन करें लेकिन ध्यान रहे रात के डिनर में यदि आप अनाज न ले तो ज्यादा बेहतर होगा। आप उसकी जगह सूप के साथ सब्जियां आदि ले सकते है यदि अनाज लेना चाहते है तो बहुत कम ले और लाइट डिनर करें। उपरोक्त उपाय से आप एक सप्ताह के अंदर अपनी न सिर्फ इम्यूनिटी बेहतर कर सकते है बल्कि आपका दिनचर्या भी हो जाएगा और आप न सिर्फ कोरोना बल्कि अन्य बीमारियों से लडने में अपने को मजबूत पाएंगे।

लेखक – रामकुमार यादव

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nine + 13 =

Back to top button