व्यक्ति विशेष

एक कोशिश ऐसी भी…..

लखनऊ जनकल्याण महासमिति द्वारा गोद लिए गए गोमती नगर विस्तार मखदुमपुर के प्राथमिक विद्यालय में आज एक सामाजिक संस्था ‘ एक कोशिश ऐसी भी ‘ तरफ से बच्चों को,कापी, स्टेशनरी और बैग आदि सामग्री वितरित किया गया।

कार्यक्रम में लखनऊ जनकल्याण महासमिति के अध्यक्ष उमाशंकर दुबे, महासचिव रामकुमार यादव के अलावा महासमिति महिला मोर्चा की अध्यक्ष रजनी पाण्डेय, ग्राम प्रधान मखदूमपुर देवेश यादव भी मौजूद थे।महासमिति महिला मोर्चा की उपाध्यक्ष एवं एक कोशिश ऐसी भी की चेयरपर्सन वर्षा वर्मा और अध्यक्ष दीपक महाजन के नेतृत्व में यह कार्यक्रम आयोजित किया गया।

महासमिति के अध्यक्ष उमाशंकर दुबे ने बताया कि वर्षा वर्मा और दीपक महाजन इस स्कूल में कार्यक्रम समय समय बच्चो को प्रोत्साहित करने आते है । महासमिति ने 3 साल पहले इस स्कूल को गोंद लिया जिसके बाद इस स्कूल की दशा ही बदल गयी ।

उमाशंकर दुबे ने बताया कि महामिति द्वारा गोद लिया गया यह मखदुमपुर प्राथमिक विद्यालय बनकर तैयार हो गया है। कोरोना काल मे बच्चो पढ़ाई जरूर बाधित हुई लेकिन अब एक बार फिर से स्कूल में पढ़ाई का माहौल देखने को मिल रहा है। महासमिति स्कूल के शिक्षा के स्तर को बेहतर करने की कोशिश कर रही है।

जिस प्रकार यहाँ के बच्चो को बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर के माध्यम से निजी स्कूल की तरह व्यवथा दी गयी है उसी प्रकार कोशिश है कि बच्चो को बेहतर शिक्षा भी दिया जाय। अब इस सरकारी विद्यालय के बच्चो को प्रोजेक्टर से पढ़ाया जाएगा। पूरा स्कूल 16 सीसीटीवी कैमरे की नजर में होगा । सभी क्लास रूम में टेबल चेयर के साथ साथ बेहतरीन गार्डन की व्यवस्था दी गयी है। पिछले दिनों स्कूल में बच्चो के हाथों से सैकड़ो पेड लगाने गए ।

महासमिति की कोशिश थी कि बच्चे पहले स्कूल आना सीखे जिसके लिए एक माहौल देने की कोशिश की गई अब स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे अपने को किसी निजी स्कूल के बच्चो से कम नही समझते। सभी बच्चों की आई डी कार्ड की भी व्यवस्था की जा रही है यहां छोटी छोटी से ऐसी चीज है जो बच्चो को पढ़ने लिखने के लिए आकर्षित करें की व्यवस्था की गई है ।

महासमिति का उद्देश्य बेहतर शिक्षा देने का है। इस स्कूल में कल्पतरु निवासी प्रमोद सिंह ने वाटर कूलर की व्यवथा की तो सरस्वती अपार्टमेंट निवासी संजय शर्मा ने क्लास रूम में पंखे लगवाए,शिप्रा निवासी वर्णित पोद्दार और अलकनंदा निवासी उत्सव माहेश्वरी ने सीसीटीवी कैमरे लगवाए तो ग्राम प्रधान देवेश यादव के योगदान को गिनाया नही जा सकता।

ऐसे जनसेवकों के सहयोग से आज यह विद्यालय किसी निजी और बड़े विद्यालय से कम नही है और यह साफ है कि यदि कोई जनप्रतिनिधि सच्चे मन से किसी स्कूल को गोद लेता है तो निश्चित वह समाज के लिए प्रेरणा का स्रोत होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × 3 =

Back to top button