उत्तर प्रदेश

जानिए क्यों हटे एलडीए के डीएम कटियार

रिपोर्ट – रामकुमार यादव

ब्रेकिंग न्यूज़ यूपी-  लखनऊ विकास प्राधिकरण आज पुरे सचिवालय से लेकर चर्चा में रहा दरसल एलडीए के सबसे ज्यादा मजबूत स्तम्भ लंबे समय से कुर्सी पर जमे संयुक्त सचिव डीएम कटियार को उनके मूल विभाग नगर विकास में वापस कर दिया गया है। डीएम कटियार गोमतीनगर विस्तार, बल्क सेल और व्यवसायिक सम्पत्ति जैसे अहम विभाग देख रहे थे। डीएम कटियार 2010 में एलडीए में तैनात हुए थे। उनको लेकर समय समय पर विवाद भी बने रहे। डीएम कटियार हमेशा सरकार के चहेते काबिल अफसर रहे है सायद यही कारण है कि आज से 11 साल पहले वर्ष 2010 में शासन स्तर से जारी आदेश में कहा गया था कि

लखनऊ विकास प्राधिकरण में कार्यों की संवेदनशीलता तथा कार्यों के निस्तारण को देखते हुवे उपसचिव स्तर के अधिकारी की आवश्यकता को देखते हुए धीरेन्द्र मोहन कटियार जो मूलतः पालिका सेवा के कर निर्धारण अधिकारी वर्ष 2010 में ( वेतनमान 6500-10500 ) को उपसचिव वेतनमान रू . 8000-275-13500 के पद पर उच्चीकृत कर तैनात किये जाने की आवश्यकता महसूस की गयी थी ।

मतलब आप खुद समझ सकते कि इतने काबिल अफसर थे कि उन्हें प्रमोट कर दिया । इतना ही नही अगर उस समय जारी सरकारी आदेश का अध्ययन करे तो उसमे यह भी लिखा था कि

लखनऊ विकास प्राधिकरण में वेतनमान रू . 8000-275-13500 में उपसचिव का 01 अस्थायी पद निःसंवर्गीय पद, निम्नलिखित शर्तो एवं प्रतिबन्धों के अधीन सृजित किये जाने की स्वीकृति राज्यपाल एतद्द्वारा प्रदान करते हैं : उक्त अस्थायी पद ( निःसंवर्गीय पद ) का सृजन , मात्र धीरेन्द्र मोहन कटियार की लखनऊ विकास प्राधिकरण में कर निर्धारण अधिकारी के पद को उच्चीकृत करते हुए , उप सचिव के पद पर नियुक्ति हेतु किया जा रहा है । उक्त पद पर होने वाला सम्पूर्ण व्यय लखनऊ विकास प्राधिकरण अपने स्रोतों से वहन करेगा । उक्त पद पर धीरेन्द्र मोहन कटियार के सेवानिवृत्ति अथवा अन्य किसी कारणों से पद त्याग देने के पश्चात् उच्चीकृत अस्थायी पद स्वतः समाप्त हो जायेगा , तब कर निर्धारण अधिकारी का पद स्वतः पुनर्जीवित हो जायेगा ।

सबसे बड़ी बात है यह आदेश वित्त विभाग की सहमति से निर्गत किया गया था। कुल मिलाकर अगर सरकार की कृपा किसी पर हो तो ऐसी ही होनी चाहिए लेकिन खबर है पिछले दिनों मीडिया में आयी खबरों और कुछ शिकायतों से मुख्यमंत्री नाराज़ है और कल ही इस सम्बंध में कड़ी के निर्देश दे दिए थे हलाकि खबर तो यहां तक है कि एलडीए वीसी के बहुत करीबी अफसर माने जाने वाले डीएम कटियेगा को एलडीए से हटाने के लिए आज शनिवार होने के बावजूद सचिवालय खोला गया और उन्हें वापस करने का फरमान जारी हो गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − fifteen =

Back to top button